Share this…

यह MPGK Notes मध्यप्रदेश में आयोजित ESB, VYAPAM, MPPEB, MPPSC सभी परीक्षाओं के लिए उपयोगी हैं। हमारे द्वारा यह MPGK Topicwise Notes उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। यह MPESB के लिए उपयोगी MPGK Notes समय-समय पर अपडेट किए जाते रहेंगे। जिससे आपको बार-बार नई किताबें खरीदने की जरूरत नहीं होगी।

                                                                          1947 की स्थिति
भागअन्‍य नामराजधानीरियासत प्रमुख    रियासतराजप्रमुखविशेष
पार्ट- Aसेंट्रल प्रोविन्‍स(मध्‍य प्रान्‍त) व बरारनागपुर15मकड़ाई(हरदा), विदर्भ(नागपुर), महाकौशल(जबलपुरपं. रविशंकर शुक्‍लराघवेंद्र राव (गवर्नर)
पार्ट- Bमध्‍य भारतग्‍वालियर(शीतकालीन), इंदौर (ग्रीष्‍मकालीन)26होल्‍कर(इंदौर), सिंधिया(ग्‍वालियर), नरसिंहगढ़(राजगढ़)लीलाधर सेठ / जोशीतख्‍तमल जैन (गवर्नर)
पार्ट- Cविंध्‍य प्रदेशरीवा38अजयगढ़ (पन्‍ना), दतिया, ओरछा (निवाड़ी) बुंदेलखंड, बघेलखंडशम्‍भुनाथ शुक्‍ल / पांडे    ———-
भोपालभोपाल स्‍टेटभोपाल (स्‍वतंत्र राज्‍य पार्ट- C के अंतर्गत)1भोपालमो.हमीदुल्‍लाहडॉ. शंकर दयाल शर्मा (भोपाल राज्‍य के प्रथम मुख्‍यमंत्री)

1956 की स्थिति
फजल अली  आयोग की सिफारिश पर पार्ट – A, पार्ट – B,  व पार्ट – C को मिलाकर 1 नवंबर 1956 को म.प्र. का पुनर्गठन किया गया, जिसमे 43 जिले सम्मिलित थे।

पार्ट – A में परिवर्तन:-

• पार्ट – A के 8 जिले अकोला, अमरावती, भंडार, बुलढाणा, यवतमाल, नागपुर, वर्धा, चाँद को तत्‍कालीन बम्‍बई राज्‍य में सम्मिलित कर दिया गया।

 
पार्ट – B में परिवर्तन :-

• राजस्‍थान के सिरोंज को विदिशा जिले में शामिल किया गया व मंदसौर के सुनेल टप्‍पा को राजस्‍थान में शामिल किया गया।

पार्ट – C:-

• इसे बिना परिवर्तन किये शामिल कर लिया गया।

मध्‍यप्रदेश की स्थिति
1.1947 में म.प्र. की स्थिति     

2.1956 में म.प्र. की स्थिति      

3.वर्तमान में म.प्र. की स्थिति   

 1956 की स्थिति
फजल अली  आयोग की सिफारिश पर पार्ट – A, पार्ट – B,  व पार्ट – C को मिलाकर 1 नवंबर 1956 को म.प्र. का पुनर्गठन किया गया, जिसमे 43 जिले सम्मिलित थे।

पार्ट – A में परिवर्तन:-

• पार्ट – A के 8 जिले अकोला, अमरावती, भंडार, बुलढाणा, यवतमाल, नागपुर, वर्धा, चाँद को तत्‍कालीन बम्‍बई राज्‍य में सम्मिलित कर दिया गया। 

 
पार्ट – B में परिवर्तन :-

• राजस्‍थान के सिरोंज को विदिशा जिले में शामिल किया गया व मंदसौर के सुनेल टप्‍पा को राजस्‍थान में शामिल किया गया।

पार्ट – C:-

• इसे बिना परिवर्तन किये शामिल कर लिया गया।


• म.प्र. के गठन के समय 1 नवम्‍बर 1956 को 43 जिले शामिल किये गए थे।

• म.प्र. के पुन: पुनर्गठन में 1 नवम्‍बर 2000 को 45 जिले शामिल किये।

म.प्र. में जिलों का गठन (1956 से 2023 की स्थिति)
मध्‍यप्रदेश में जिलों का गठन

गठन वर्षजिला / जिले विशेष
26 जनवरी 1972भोपाल व राजनंदगांवइससे पहले भोपाल सीहोर जिले की तहसील थी।
मई 199810 जिलों का गठन• 10 में से 4 जिले(बड़वानी, श्‍योपुर, डिंडोरी व कटनी म.प्र. में शामिल हुए) • इन जिलों का गठन बी.आर. दुबे समिति की सिफारिश पर किया गया।
जून 19986 जिलों का गठन6 में से 3 जिले म.प्र. में शामिल हैं(हरदा, उमरिया, व नीमच) इन जिलों का गठन सिंहदेव समिति की सिफारिश पर किया गया।
15 अगस्‍त 20033 जिलों का गठन ( बुरहानपुर, अशोकनगर, अनूपपुर)बुरहानपुर को खंडवा से, अशोकनगर को गुना से व अनूपपुर को शहडोल से अलग करके गठन किया गया।
17 मई 20081 जिले का गठन ( अलीराजपुर)अलीराजपुर को झाबुआ से अलग करके 49 वॉं जिला बनाया गया।
24 मई 20081 जिले का गठन (सिंगरौली)सिंगरौली को सीधी से अलग करके 50वॉं जिला बनाया गया।
16 अगस्‍त 20131 जिले का गठन (आगर मालवा)आगर मालवा को शाजापुर से अलग करके 51वॉ जिला बनाया गया।
1 अक्‍टूबर 20181 जिले का गठन (निवाड़ी)निवाड़ी को टीकमगढ़ से अलग करके 52 वॉं जिला बनाया गया।
प्र‍स्‍तावित जिले 20204 नए प्रस्‍तावित जिलें ( बागली, चाचौड़ा, नागदा, मैहर)बागली को देवास से , चाचौड़ा को गुना से, नागदा को उज्‍जैन से, मैहर को सतना से अलग करके नए जिले गठित किये जायेंगे।
15 Aug. 2023MauGanjSeparate from Rewa

esb, peb, vyapam, mp vyapam, mppeb, mppsc, mp professional examination board, mp peb gov in, mppsc mponline, peb home, mp peb in, peb online, peb home page, mp esb, cgvyapam, peb mponline, mp peb, peb mp, madhya pradesh professional examination board

Share this…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *