Share this…

मध्‍यप्रदेशकी शिल्‍पकला Crafts of Madhya Pradesh

यह MPGK Notes मध्यप्रदेश में आयोजित ESB, VYAPAM, MPPEB, MPPSC सभी परीक्षाओं के लिए उपयोगी हैं। हमारे द्वारा यह MPGK Topicwise Notes उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। यह MPESB के लिए उपयोगी MPGK Notes समय-समय पर अपडेट किए जाते रहेंगे। जिससे आपको बार-बार नई किताबें खरीदने की जरूरत नहीं होगी।

शिल्‍प कला लकड़ी, बांस, धातु, कपड़ा, मिट्टी, पत्‍थर आदि की सहायता से बनायी जाती है और म.प्र. के साथ – साथ बाहर भी इनकी प्रसिद्धि हुई है । 

म.प्र. में निम्‍न प्रकार की शिल्‍पकलाएँ प्रसिद्ध हैं –
छीपा शिल्‍प कला, खरात /काष्‍ठ शिल्‍प कला, प्रस्‍तार शिल्‍प कला, लाख शिल्‍प कला, गुडि़या शिल्‍प कला, पत्‍ता शिल्‍प कला, धातु शिल्‍प कला, मिट्टी शिल्‍प कला

छीपा शिल्‍प कला
• कपड़ों पर विभिन्‍न रंगो की सहायता से इन्‍हें बनाया जाता है ।
• उज्‍जैन के भैरूगढ़ छीपा शिल्‍प देश भर में प्रसिद्ध है ।

खरात / काष्‍ठ शिल्‍प कला
• खैर, सरई, सफेदा, शीशम आदि लकडि़यों की सहायता से खिलौनें व सजावट की सामग्री बनायी जाती है , इसमें गोंद, जिंक पावडर व विभिन्‍न रंगो का उपयोग किया जाता है ।
• इसके प्रमुख क्षेत्र बुधनी, श्‍योपुर व रीवा है ।

प्रस्‍तार शिल्‍प कला
• पत्‍थरों पर विभिन्‍न प्रकार की कलाकृतियाँ निर्मित की जाती है ।
• इनके प्रमुख क्षेत्र मंदसौर व रतलाम हैं ।



लाख शिल्‍प कला
• वृक्ष के गोंदिया रस से लाख बनार्इ जाती है, लाख से कई कलात्‍मक वस्‍तुएं जैसे चूड़े, खिलौने, श्रृंगार पेटी आदि बनाई जा‍ती है।
• इनके प्रमुख क्षेत्र उज्‍जैन, इंदौर, महेश्‍वर, मंदसौर व रतलाम है।

पत्‍ता शिल्‍प कला
• पत्‍ते का प्रयोग कर प्रमुखत: झाडू, खिलौने इत्‍यादि बनाये जाते हैं ।
• विभिन्‍न जाति व जनजाति क्षेत्र में ये शिल्‍पकला जीवित है ।

धातु शिल्‍प कला
• सतना के उचेहरा कस्‍बे में कांसे से प्रसिद्ध बटलोही नामक पात्र बनाए जाते है ।
• बेल मेटल मूर्तियों के लिए दतिया व टीकमगढ़ प्रसिद्ध है ।

मिट्टी शिल्‍प कला (टेराकोटा)
• मिट्टी के खिलौने और मूर्तियाँ इत्‍यादि बनाये जाते हैं ।
• इनके प्रमुख क्षेत्र झाबुआ मंडला और बैतूल आदि हैं ।
• मोलेला कला राजस्‍थान व म.प्र. के सीमा क्षेत्र (नीमच, मंदसौर) की प्रसिद्ध कला है ।

हथकरघा शिल्‍प
• इसके अंतर्गत चंदेरी व महेश्‍वर की साडि़याँ प्रसिद्ध है ।
• धार जिले के तांबा धातु की जरी वाले बाघ प्रिंट प्रसिद्ध हैं ।

अन्‍य चर्चित शिल्‍पकलाएं (आत्‍मनिर्भर मध्‍यप्रदेश)

• मंदसौर की ज्‍यामितीय आकृति वाली दरी/ कालीन ।
• भीलों द्वारा बनाई जाने वाली पुंजा दरी ।
• भोपाल , उज्‍जैन, रतलाम व ग्‍वालियर की कागज की लुग्‍दी से वस्‍तुएं (देवताओं की मूर्ति, पक्षियों की प्रतिकृतियाँ) बनाने की कला ।
• भील जनजाति के नंदना प्रिंट प्रसिद्ध हैं ।
• टीकमगढ़ के निकट “कारी’’ बहुरंगी संगमरमर के वस्‍तुएं बनाने के लिए प्रसिद्ध है ।

मध्‍यप्रदेश मृगनयनी एम्‍पोरियम

• मध्‍यप्रदेश सरकार ने लघु उद्योगों के विकास के लिए मृगनयनी एम्‍पोरियम 1961 में स्‍थापित किए है, ताकि लघु उद्योगों को बढ़ावा मिल सके।

• मृगनयनी एम्‍पोरियम को म.प्र. का प्रतिबिम्‍ब कहा जाता है ।

• इसका मुख्‍यालय भोपाल में स्थित है ।


peb home page, mp esb, cgvyapam, peb mponline, mp peb, peb mp, madhya pradesh professional examination board,esb, peb, vyapam, mp vyapam, mppeb, mppsc, mp professional examination board, mp peb gov in, mppsc mponline, peb home, mp peb in, peb online,

Share this…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *