Share this…

मध्‍यप्रदेश के पर्वत (Mountains of Madhya Pradesh)

म.प्र. का अधिकतर भाग दक्‍कन-पठार के अंतर्गत आता है। इसके कारण प्रदेश का आधे से अधिक हिस्‍सा पठारी है। लेकिन प्रदेश में जगह-जगह ऊंचे-नीचे पर्वत भी पाए जाते  है। जिनमें से प्रमुख विंध्‍यांचल व सतपुड़ा है।

• विंध्‍याचल पर्वत नर्मदा नदी के उत्‍तर में पूर्व से पश्‍चिम की ओर फैला है।
• इसका निर्माण हिमालय से पहले का माना जाता है।
• विंध्‍याचल पर्वत का का निर्माण क्‍वार्ट्ज एवं बालू पत्‍थरों से हुआ है।
• इससे निकलने वाली नदियों में चम्‍बल, सिंध, बेतवा एवं केन प्रमुख है।

विंध्‍यांचल – यह पश्चिमी भाग है, इसके अंतर्गत मांडू, असफी पहाड़ी, चांचू पॉइंट, काकड़ वर्डी, सलकनपुर व भीमबैठिका आते है।
भांडेर – यह विंध्‍याचल का मध्‍य भाग है, इस श्रेणी के अंतर्गत सद्भावना चोटी (गुडविल, 752मी.) दमोह में स्थित है।
कैमूर – यह विंध्‍याचल का पूर्वी भाग है, इसके अंतर्गत त्रिकुटा पर्वत (मैहर) , गिद्धराज पर्वत(सतना) आते है, यह केन नदी का उद्गम स्‍थल है व कैमूर श्रेणी यमुना व सोन के मध्‍य जल विभाजक का कार्य करती है।

  सतपुड़ा पर्वत श्रेणी

1.राजपीपला

2.महादेव

3.मैकाल

सतपुड़ा पर्वत

• प्रदेश में इसका विस्‍तार नर्मदा सोन नदी के दक्षिण में विंध्‍याचल के समानान्‍तर है।

• इस पर्वत का निर्माण ग्रेनाइट एवं बेसाल्‍ट चट्टानों से हुआ है।

• पश्चिम में यह राजपीपला की पहाडि़यों से शुरू होकर पूर्व में मैकाल तक फैला है।

राजपीपला –
• यह सतपुड़ा का पश्चिमी भाग है, जिसका विस्‍तार गुजरात व मध्‍यप्रदेश में बुरहानपुर दर्रें तक है।
• इसके अंतर्गत बड़वानी हिल्‍स, असीरगढ़ हिल्‍स व ग्‍वालगढ़ हिल्‍स आती है।
• इसकी सर्वोच्‍च चोटी चूलगिरि (1215 मी.) है व इस श्रेणी में स्थित असीरगढ़ को “दक्षिण का प्रवेश द्वार’’ कहा जाता है।

महादेव –
• यह सतपुड़ा का मध्‍य भाग है, इसका विस्‍तार महाराष्‍ट्र व मध्‍यप्रदेश में खंडवा से सिवनी तक है।
• इसके अंतर्गत धूपगढ़, पचमढ़ी, चौरागढ़, नन्‍दीगढ़, कालीभीत (बैतूल) आदि पर्वत चोटियाँ आती है।
• इस क्षेत्र की सबसे ऊँची छोटी धूपगढ़ है और यह मध्‍यप्रदेश की भी सबसे ऊँची चोटी है।

मैकाल –
• यह सतपुड़ा का पूर्वी भाग है, इसका विस्‍तार म.प्र. के सिवनी से छत्‍तीसगढ़ तक है।
• इसके अंतर्गत अमरकंटक, किरार घाटी, अचानकमार आते है।
• मैकाल की सर्वोच्‍च चोटी अमरकंटक (अनूपपुर) है।

important Facts

गिद्धराज पर्वत – यह पहाड़ी मध्‍यप्रदेश के सतना जिले के रामनगर तहसील के देवराजनगर में स्थित है।
• भोपाल शहर पाँच पहाडि़यों श्‍यामला, नओरी, अरेरा, कटारा व ईदगाह पर बसा है।
• मालवा की उच्‍चतम चोटी सिगार (881मीटर) इंदौर जिले में स्थित है।
• बुंदेलखंड की उच्‍चतम चोटी सिद्धबाबा (1172 मीटर) दतिया जिले में स्थित है।
• म.प्र. की सबसे ऊँची चोटी धूपगढ़ (लगभग 1350 मीटर) पचमढ़ी में होशंगाबाद जिले में स्थित है।

लांजी हिल्‍स बालाघाट में स्थित है।
लमेटा हिल्‍स जबलपुर में स्थित है।
• गोपाचल पर्वत पर ग्‍वालियर किला स्थित है।
मैकाल रेंज में सर्वाधिक खनिज मिलते है।
त्रिकुटा पर्वत (मैहर) पर शारदा माता का मंदिर स्थित है।
Share this…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *