Share this…

केन्डिला मात्रक है – ज्योति तीव्रता का

भूस्थिर उपग्रह की पृथ्थी से ऊँचाई होती है – 36000 किमी.

बल्व का फिलामेंट बना होता है -टंगस्टन का

सूर्य की ऊर्जा का स्रोत है – नाभिकीय संलयन

रेडियोसक्रियता की माप की जाती है – शिगर-मूलर काउंटर से

रॉकेट की गति आधारित है – संवेग संरक्षण के सिद्धांत पर

मूल रंग कहलाते है – नीला, लाल और हरा

सेक्सटैट का प्रयोग किया जाता है – ऊँचाई मापमे के लिए

निकट दृष्टि दोष दूर किया जाता है – अवत्तल लेंस का प्रयोग कर

दीर्घ दृष्टि दोष दूर किया जाता है – उत्तल लेंस का प्रयोग कर

परमाणु बम का सिद्धांत आधारित है – नाभिकीय’ विखंडन पर

बिजली के बल्ब में मुख्यतः प्रयोग होता है – अक्रिय गैस

ध्वनि का वेग सर्वाधिक होता है – ठोस में

ध्वनि की गति धीमी होती है – हवा में

ऊर्जा का SI मात्रक है – जूल

हाइड्रोजन बम आधारित है – नाभिकीय संलयन के सिद्धांत पर

जल का सर्वाधिक शुद्ध रूप है – वर्षा का जल

‘ग्रीन हाउस प्रभाव’ गैस है – कार्बन डाईऑक्साइड

दाढ़ी बनाने तथा आँख, नाक, कान की जाँच में प्रयोग होता है – अवतल दर्पण

नाभिकीय विखण्डन में प्रयुक्त होता है – यूरेनियम

चन्द्रमा पर गुरूत्वीय त्वरण का मान पृथ्वी के मान का – 1/6 भाग होता है

‘ द्रव अवस्था में पाया जाने वाला धातु है – पारा

Share this…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *