Share this…

मध्‍यप्रदेश के खनिज संसाधन Mineral Resources of Madhya Pradesh

peb home page, mp esb, cgvyapam, peb mponline, mp peb, peb mp, madhya pradesh professional examination board,esb, peb, vyapam, mp vyapam, mppeb, mppsc, mp professional examination board, mp peb gov in, mppsc mponline, peb home, mp peb in, peb online,

मध्‍यप्रदेश के खनिज संसाधन

म.प्र. में खनिज उत्‍पादन

प्रथम स्‍थानद्वितीय स्‍थानतृतीय स्‍थानचतुर्थ स्‍थान
• ताँबा • हीरा • गेरू • डोलोमाइट• चूना पत्‍थर • संगमरमर • रॉक फॉस्‍फेट• सीसा• कोयला

धात्विक खनिज

खनिजउत्‍पादक जिलेप्रमुख क्षेत्रविशेष
ताँबाबालाघाट, छिंदवाड़ामलाजखंड• ताँबा – नगरी मलाजखंड बालाघाट को कहा जाता है ।
• यहाँ पर हिंदुस्‍तान कॉपर लिमिटेड() ताँबे का उत्‍खनन करती है ।
मैग्‍नीजबालाघाट, छिंदवाड़ाभरवेली• भरवेली (बालाघाट) एशिया की सबसे बड़ी संचित खान है ।
• मैंगनीज धारवाड़ा चट्टानों  में पाया जाता है ।
सोनासीधी, सिंगरौली और कटनीमझौली (सीधी)
इमलिया (कटनी) चकरिया (सिंगरौली)
• कटनी के इमलिया गाँव में 2017 व 2019 में सिंगरौली के चकरिया गाँव में सोने के भण्‍डार प्राप्‍त हुए है ।
लोहाजबलपुर, कटनीस्‍लीमनाबाद (कटनी)• लोहा कैम्ब्रियन चट्टानों में पाया जाता है । • म.र्प. में लोहा उत्‍खनन का कार्य बैलाडीला लिमिटेड (छत्‍तीसगढ़) करती है ।
टंगस्‍टनहोशंगाबादआगर गांव• इसका उपयोग बल्‍ब के फिलामेंट बनाने में होता है ।
सीसाहोशंगाबाद, दतिया——–                                ———
कोरण्‍डमसिंगरौली, सीधीपीपरा (सिंगरौली)• कोरण्‍डम एल्‍युमिनियम का अयस्‍क है ।
बॉक्‍साइटबालाघाट, अनूपपुर, कटनीअमरकंटक (म.प्र. का रेणुकूट)• बॉक्‍साइट एल्‍युमिनियम का अयस्‍क है । • 1908 में सर्वप्रथम कटनी में उत्‍खनन किया गया था ।
डोलोमाइटझाबुआ , अलीराजपुर———• मैग्‍नीशियम का एक अयस्‍क है ।
टिनबैतूल——–                                   ————

अधात्विक खनिज

खनिजउत्‍पादक जिलेप्रमुख क्षेत्रविशेष
अभ्रकबालाघाट, ग्‍वालियर——म.प्र. में मस्‍कोबाईट व बायोटाइट प्रकार का अभ्रक मिलता है ।
रॉक फास्‍फेटझाबुआ, खरगौन, सागर——-गुना (NFL) में उर्वरक बनाने में इसका उपयोग किया जाता है ।
हीरापन्‍ना, सतना, छतरपुर• हिनोता, मजगवां – पन्‍ना • अंगोर, वख्‍शवाह (बँडेर) – छतरपुर • कोटारिया – सतनामध्‍यप्रदेश का प्रथम डायमंड म्‍यूजियम खजुराहो में व प्रथम डायमंड पार्क पन्‍ना में प्रस्‍तावित है ।
ग्रेफाइटबैतूल——-हिंदुस्‍तान इलेक्‍ट्रो ग्रेफाइट (HEG) मंडीदीप में स्थित है ।
चूना पत्‍थरकटनी, जबलपुर, सतना——–चूना नगरी कटनी को कहा जाता है ।
संगमरमरजबलपुर• सफेद (जबलपुर) • हरा व रंगीन (ग्‍वालियर) • रंगीन (सिवनी, खंडवा)——–
सूरमाजबलपुर——–——–
एस्‍बेस्‍टसझाबुआ——–——–

आण्विक खनिज
• यूरेनियम मध्‍यप्रदेश में केवल शहडोल जिले में पाया जाता है । इसलिए शहडोल को यूरेनियम जिला के
नाम से जाना जाता है ।

जीवाश्‍म खनिज
कोयला
• म.प्र. देश का एक प्रमुख कोयला उत्‍पादक राज्‍य है, सकल उत्‍पादन की दृष्टि से म.प्र. का कोयला
उत्‍पादन में चौथा स्‍थान है । म.प्र. में सर्वाधिक बिटुमिनस प्रकार का कोयला पाया जाता है ।

म.प्र. में कोयला क्षेत्र

मध्‍य भारत कोयला क्षेत्रसतपुड़ा कोयला क्षेत्र
सोहागपुर म.प्र. का सबसे बड़ा कोयला क्षेत्र है ।मोहपानी कोयला क्षेत्र – सारणी (बैतूल)
सिंगरौली (उत्‍तम प्रकार का कोयला पाया जाता है) (म.प्र. की ऊर्जा राजधानी)शाहपुर कोयला क्षेत्र – बैतूल
उमरिया – सबसे छोटा कोयला क्षेत्रदमुआ (कान्‍हन घाटी) – छिंदवाड़ा
कोरार कोयला क्षेत्रइकलहरा, परासिया (पेंचघाटी) – छिंदवाड़ा
जोहिला कोयला क्षेत्र

• कोलबेड मीथेन – सोहागपुर (शहडोल) रिलायंस ग्रुप द्वारा निकाला जा रहा है ।

• म.प्र. में लगभग 20 प्रकार के खनिज पाए जाते है ।
• म.प्र. खनिज निगम की स्‍थापना 1962 में की गयी ।
• म.प्र. की पहली खनिज नीति 1995 में लायी गयी ।
• म.प्र. की नई खनिज नीति 2010 में लायी गयी ।
• उद्योगों  की जननी कोयला को कहा जाता है ।
• भारत में कोयले की सबसे मोटी परत सिंगरौली में पाई जाती है ।

peb home page, mp esb, cgvyapam, peb mponline, mp peb, peb mp, madhya pradesh professional examination board,esb, peb, vyapam, mp vyapam, mppeb, mppsc, mp professional examination board, mp peb gov in, mppsc mponline, peb home, mp peb in, peb online,

Share this…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *